30 नवंबर 2011

रिश्ता.............. श्री नसीब चेतन

रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
कच्ची डोर का जाल
रिश्ते मौसम के गुलाम
पानी की तरह बदल लेते हैं रूप 


राखी में महक उठती है हवस
भर लेता खून स्वांग ज़हर का
पंख लग जाते दूध की मिठास को


मगर पत्थर मौसम की क़ैद से आज़ाद हैं
उन पर नहीं पानी का असर
पत्थर है एक रिश्ता काम का


रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
कच्ची डोर का जाल
रिश्ते मौसम के गुलाम
पानी की तरह बदल लेते हैं रूप

25 टिप्‍पणियां:

  1. रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
    कच्ची डोर का जाल
    रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप

    वाह यह रिश्ते और और इनका पानी की तरह इनका बदलना ......!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सटीक ||

    बधाई ||

    सुन्दर प्रस्तुति ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
    कच्ची डोर का जाल
    रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप

    सुन्दर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  4. पूज्य पिताजी की कवितायें तो ऐसे बाँध लेती हैं कि कुछ कह पाने की स्थिति नहीं रह जाती है!! विशाल भाई, कुछ नहीं, बस मौन स्वीकारें!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप !!

    sachchaayee hai... kahin n kahin....!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप !!
    सच्ची सार्थक रचना...
    सादर आभार आदरणीय विशाल भाई...
    यह सुन्दर शृंखला अनवरत चलती रहे...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  7. रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
    कच्ची डोर का जाल
    रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप.........waah bahut khub

    par vishwas kii dor bhi jaruri hai har rishte mei ...aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  8. रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप..

    खूबसूरत अभिव्यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. रिश्ते भी गीली धुप से होते हैं ..

    खूबसूरत अभिव्यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
    कच्ची डोर का जाल
    रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप....बहुत ही खुबसूरत......

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूबसूरत रचना............
    बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  12. विशाल भाई अच्छी कविता है ये आप के पापा जी की, ऐसी और कवितायें भी पढ़वाना

    उत्तर देंहटाएं
  13. पत्थर है एक रिश्ता काम का
    ...
    मुझे भी यही बात जंचती है विशाल भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  14. रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
    कच्ची डोर का जाल
    रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप

    बहुत खूबसूरत.....बेहतरीन अभिव्यक्ति है बदलते रिश्तों की|

    उत्तर देंहटाएं
  15. बदलता रूप रिश्तों का ...बहुत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  16. खूबसूरत प्रस्तुति ! बदलते रिश्तों की फितरत को बहुत ही बेबाकी से उकेरा है ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  17. रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
    कच्ची डोर का जाल
    रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप

    ...बहुत सच...रिश्तों की सच्चाई को बखूबी उकेरा है..बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  18. रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
    कच्ची डोर का जाल
    रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप
    riston ka taanabaana esa hi hai

    उत्तर देंहटाएं
  19. रिश्ते को पानी की तरह बदलना बहुत कुछ बयां कर रहा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  20. रिश्ते पत्थर जो नहीं होते ... मौसम का असर तो होना है .. बहुत उम्दा प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. रिश्तों में बंधी ज़िन्दगी
    कच्ची डोर का जाल
    रिश्ते मौसम के गुलाम
    पानी की तरह बदल लेते हैं रूप...बहुत खूबसूरत प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.