09 मई 2011

स्वयंनामा -4

जुगनू

दिन के उजाले में
जो जुगनू
तेरी आँखों से
निकल भागे थे
रात के अंधेरों में
मेरा पीछा
किया करते हैं
मुझे सोने नहीं देते 


बरसाती

पिछली बारिशों में
तुम भूल गए थे 
अपनी बरसाती
मेरे पास 
उसे तीखी धूप में भी
ओढ़े रखता हूँ
और होता रहता हूँ
बारिश से तर बतर


पागल नज़्म 

वक़्त की 
क़ब्र में
दफ़न हो गया
मेरे  हिस्से का खुदा तक 
फिर भी 
बैठा हूँ 
इक  लौ जलाए
कयामत के इंतज़ार में 

39 टिप्‍पणियां:

  1. वक़्त की
    क़ब्र में
    दफ़न हो गया
    मेरा हिस्से का खुदा तक
    फिर भी
    बैठा हूँ
    एक लौ जलाए
    कयामत के इंतज़ार में

    बेहतरीन अभिव्यक्ति......... तीनों ही रचनाएँ कमाल की हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत बिम्बों और प्रतीकों का उत्तम प्रयोग! सारी रचनाएं सीधे दिल पर असर करती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये क्या हुआ ,कब हुआ,कैसे हुआ
    किस की कब्र में आपके हिस्से का खुदा दफन हुआ
    खुदा की खुदाई निराली है
    हिस्से में आपने उससे दोस्ती पाली है
    इसीलिए नाराज हुआ है वो
    और किसी की कब्र में जा दफन हुआ है वो

    आप कमाल ही नहीं धमाल भी कर देते हैं विशाल भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सॉरी विशाल भाई,मै भूल गया कि आपने उसे वक़्त की कब्र में दफन कर दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. पिछली बारिशों में
    तुम भूल गए थे
    अपनी बरसाती
    मेरे पास
    उसे तीखी धूप में भी
    ओढ़े रखता हूँ
    और होता रहता हूँ
    बारिश से तर बतर


    उस बरसाती को धुप में ओढ़े रखना आपका उनके प्रति समर्पण के भाव को दर्शाता ...इस भाव को आपने बहुत सहजता से पेश किया है ..!

    उत्तर देंहटाएं
  6. विशाल जी ,
    तीनो ही रचनायें कमाल की हैं.... बहुत गहन अभिव्यक्ति... बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक से बढ़ कर एक रचनाये

    गहरा समर्पण है इन तीनों कविताओ में

    उत्तर देंहटाएं
  8. वक़्त की
    क़ब्र में
    दफ़न हो गया
    मेरा हिस्से का खुदा तक
    फिर भी
    बैठा हूँ
    एक लौ जलाए
    कयामत के इंतज़ार में "

    वाह !कमाल की है तीनो कविताए विशाल जी ...सबसे दिलकश तो आखरी वाली लगी --
    " यह दिल का लगाना ठीक नही
    उसपर दूर जाना ठीक नही "

    उत्तर देंहटाएं
  9. दिन के उजाले में
    जो जुगनू
    तेरी आँखों से
    निकल भागे थे
    रात के अंधेरों में
    मेरा पीछा
    किया करते हैं
    मुझे सोने नहीं देते
    kamaal kee prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  10. त्निनो क्षणिकाएं बहुत अच्छी ...एक से बढ़ कर एक

    पिछली बारिशों में
    तुम भूल गए थे
    अपनी बरसाती
    मेरे पास
    उसे तीखी धूप में भी
    ओढ़े रखता हूँ
    और होता रहता हूँ
    बारिश से तर बतर

    यह बहुत पसंद आई ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. तीनो क्षणिकायें गज़ब की हैं …………खूबसूरत बिम्ब प्रयोग्………सीधा दिल मे उतरती हैं……………शानदार्।

    उत्तर देंहटाएं
  12. तीनो क्षणिकाएं बहुत ही अच्छी हैं ...

    पिछली बारिशों में
    तुम भूल गए थे
    अपनी बरसाती
    मेरे पास
    उसे तीखी धूप में भी
    ओढ़े रखता हूँ
    और होता रहता हूँ
    बारिश से तर बतर

    पर इसका तो जवाब नहीं इन पंक्तियों के भाव बहुत ही गहरे और मर्मस्पर्शी हैं... वाह...समर्पण हो तो ऐसा.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. तीनों ही रचनाएँ कमाल की हैं|एक से बढ़ कर एक| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  14. तीनों ही रचनाएँ बहुत अच्छा लिखा है आपने बहुत सुन्दर,
    आप ने 'मगन' कर दिया मन को.इन पंक्तियों के भाव बहुत ही गहरे और मर्मस्पर्शी हैं
    बधाई आपको.......

    उत्तर देंहटाएं
  15. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 10 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. वक़्त की
    क़ब्र में
    दफ़न हो गया
    मेरे हिस्से का खुदा तक
    फिर भी
    बैठा हूँ
    इक लौ जलाए
    कयामत के इंतज़ार में.

    ये क्षणिकाएं तो खुद ही क़यामत लेन में सक्षम है. तीनों ही ही एक से बढ़कर एक. शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खुबसूरत........शानदार मुक्तक.......सारे बढ़िया....आखिरी वाला सबसे अच्छा लगा......प्रशंसनीय|

    उत्तर देंहटाएं
  18. तीनों नज़मों में कमाल है ... और पागल नज़्म ... सच में पागल कर गयी ... लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. वक़्त की
    क़ब्र में
    दफ़न हो गया
    मेरे हिस्से का खुदा तक
    फिर भी
    बैठा हूँ
    इक लौ जलाए
    कयामत के इंतज़ार में

    बहुत मर्मस्पर्शी...तीनों रचनाएँ लाज़वाब..

    उत्तर देंहटाएं
  20. विशाल भाई!!
    अगम और अतल है भाव इन छोटी नज्मों का.. कमाल!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. उसे तीखी धूप में भी
    ओढ़े रखता हूँ
    और होता रहता हूँ
    बारिश से तर बतर...
    फिर भी लौ जलाये बैठा हूँ इन्तजार में ..
    और आँखों के जुगनू ..
    तीनों क्षणिकाओं ने मोह लिया !

    उत्तर देंहटाएं
  22. तीनों क्षणिकाओं ने दिल में घर कर लिया, बहुत बेहतरीन बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  23. तीनों ही रचनाएँ कमाल की

    उत्तर देंहटाएं
  24. न जाने कई जन्मों से उस क़यामत का इंतजार है .भूले से जो आता मेरा खुदा...मुझे मिल जाता .बेहतरीन ...आमीन ....

    उत्तर देंहटाएं
  25. क्या बात है..... विशाल जी कमाल की रचनाएं हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  26. bahut sunder swayamnama hai, gehan soch aur sunder shabdon ka chayan.

    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं
  27. बेहतरीन मुक्तक सरीखी कविताये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  28. वक़्त की
    क़ब्र में
    दफ़न हो गया
    मेरे हिस्से का खुदा तक
    फिर भी
    बैठा हूँ
    इक लौ जलाए
    कयामत के इंतज़ार में

    कम शब्दों में बहुत गहन अर्थों को प्रकट करती सुंदर कविताएं।
    तीनों कविताएं बेजोड़ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  29. वाह - वा !!
    काव्य रूप में लिखी गयी
    तीनों क्षणिकाएं लाजवाब हैं ........
    "बरसाती" को बहुत बेहतर ढंग से
    इस्तेमाल किया है ... !!

    उत्तर देंहटाएं
  30. यादों और बरसाती की सौगात आपके पास है- हाँ , बकौल आपके जुगनू आपको सोने नहीं देते , गरज़ यह के तंग करते हैं. जो कोई बड़ी बात नहीं , फिर भी क़यामत तक इंतज़ार करने की बजाए क़यामत का इंतज़ार !
    बहुत खूब, विशाल जी, दाद देनी पड़ेगी !

    उत्तर देंहटाएं
  31. विशाल भाई ,
    मैं आपके 'उनसे' मिलकर आ रहा हूँ.
    मैंने उनको कहा कि 'जी' जरा अपने आँखों के जुगुनुओं
    को संभाल के रखें आप,जो दिन के उजाले में निकल भागे हैं
    और हमारे विशाल भाई का रात में पीछा करके उन्हें सोने
    नहीं दे रहें हैं.फिर आप अपनी बरसाती भी विशाल भाई के पास
    पिछली बरसात में भूल आयें हैं,उसे भी ले आयें.वर्ना तीखी
    दुपहरी में हमारे विशाल भाई बरसात से तरबतर होते रहेंगें.
    उन्होंने मुझ से वादा तो किया है.अब देखिये क्या होता है.

    परन्तु,आप भी तो एक वादा कर के आये थे विशाल भाई,मेरी पोस्ट पर.
    याद है न आपको ?

    उत्तर देंहटाएं
  32. ये फैसला नहीं है पर अभी का सच यही है कि‍ ये पगली कवि‍ताएं हकीकत से सटी हुई हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  33. बढ़िया कवित ...

    सुन्दर तथा गहरे भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  34. तीनो क्षणिकाएं बहुत ही अच्छी .

    उत्तर देंहटाएं
  35. Thanx a lot Vishal aapke comment ke madhyam se aapke blog tak pahuchi.bahut achchi rachnaayen padhi aapki.aap shayad shayeri from my heart community se jude hain yesa lagta hai.is it??main bhi usse judi hoon.par ab apne blog ki vyastata ke kaaran usme bahut kum access karti hoon.

    उत्तर देंहटाएं
  36. दिन के उजाले में
    जो जुगनू
    तेरी आँखों से
    निकल भागे थे
    रात के अंधेरों में
    मेरा पीछा
    किया करते हैं
    मुझे सोने नहीं देते
    khoobsurat si rachna

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.