24 मई 2011

दो व्यंग रचनाएँ -श्री रूप शर्मा "निर्दोष "

सभी चोर


कल रात मैंने
अपने मोहल्ले के कुत्तों को
डिनर पर बुलाया
फिर बुलाने का
मकसद समझाया
मैंने पूछा
क्यों भाई कुत्तो
आज कल चोरों पर भौंकना छोड़
खामोश क्यों हो गए हो
एक बूढा कुत्ता हाथ जोड़ कर कहने लगा
क्या करें निर्दोष भाई
हम भी तो भौंक भौंक कर बोर हो गए हैं
तुम ही बताओ किस किस पर भौंके
यहाँ पर सभी चोर हो गए हैं.

रिमांड

आ रही थी थाने से
एक कुत्ते के चिल्लाने की आवाज़
मैं रुका,ठहरा,पूछा,
पता चला
पुलिस  ने एक कुत्ते का
रिमांड लिया था
क्योंकि कुत्ते ने इमानदारी से 
अपना फ़र्ज़ पूरा किया था
हुई थी चोरी शहर की
एक बड़ी दूकान पर
पुलिस ले गयी थी उसे
चोरी का सुराग लगाने
उस दूकान पर
कुता सूंघता सूंघता
थाने में ही घुसा जा रहा था
सिपाही के दूसरी और घसीटने पर भी
बड़े मुंशी जी को चाट रहा था 

28 टिप्‍पणियां:

  1. हा...हा....हा.....हास्य के साथ व्यंग्य की करारी चोट......शानदार |

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छा लेकिन ध्यान रखना ब्लॉग की दुनिया मे पुलिश वाले भी है ! जो शायद इमानदार हो !

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक बूढा कुत्ता हाथ जोड़ कर कहने लगा
    क्या करें निर्दोष भाई
    हम भी तो भौंक भौंक कर बोर हो गए हैं
    तुम ही बताओ किस किस पर भौंके
    यहाँ पर सभी चोर हो गए हैं.
    bahut shaandaar hahaha

    उत्तर देंहटाएं
  4. विशाल भाई
    कुत्तों की भी खूब कहानी प्रस्तुत की आपने.
    लगता है आनंद की दुकान का 'ट्रेलर' है.
    पर भाई क्या हम सब वास्तव में चोर हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. haasya ke saath saath ek sateek vyang hai.bahut shaandar prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद शानदार और करारे व्यंग्य्।

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचना बहुत संदर है..मजा आ गया..
    दूसरी वाली से तो सहमत हूँ मगर पहली वाली अभी पूर्ण सत्य नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  8. विशाल जी,
    कुत्ते की इमानदारी पर बेसाख्ता हंसी निकल आई....
    करारी व्यंग्य रचनाएं हैं.....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत मज़ेदार व्यंग हैं । बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब लिखा है दोनों को ही पढ़ कर मज़ा आया........ :):)

    उत्तर देंहटाएं
  11. मारे ब्लॉग को पसंद करने पर आपका आभार.हमने आपको फौलो कर लिया है!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत शानदार व धारदार व्यंग । वाह...

    उत्तर देंहटाएं
  13. @ राकेश कुमार जी

    ये बातें हमें औरो से नही बल्कि खुद अपने आप से अपनी अतंरआत्मा से पुछनी चाहिए।

    विशाल भाई अच्छी रचना पढ़वाने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत मज़ेदार व्यंग हैं । बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह...बहुत खूब लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. व्यंग्य में सच्चाई है।
    आजकल कुछ ऐसे ही हालात हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  17. मज़ेदार पर सच्चाई बयां करते व्यंग्य.........

    उत्तर देंहटाएं
  18. हैरानी नहीं होगी अगर आदमी कहे जाने पर कुत्ते बुरा मान जाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह! निर्दोष जी ने कुत्ता को भी हीरो बना दिया ..मतलब बोरियत को हम तक पहुंचा दिया..हंसकर दूर किया जाए ...हा!हा!हा!

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब ... दोनो ही लाजवाब व्यंग हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. दोनों ही व्यंग्य बस लाज़बाब हैं....
    आज का सच यही है.

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.