01 सितंबर 2011

ग़म


गमे दौरां,
गमे जानां, 
गमे खालक,
गमे खुद,
हर सू 
गम ही गम है,
हर गम में 
तू शामिल,
क्यों न गम में ,
रहूँ खुश .

19 टिप्‍पणियां:

  1. इस गम पर कुर्बान होने को दिल चाहता है....शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  2. गम को मुँह चिढाने से ही वह चिढकर भाग जाता है!!
    कहाँ रहे इतने दिनों तक??

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंतस को झकझोरती हुई बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये क्या हो गया है आपको विशाल भाई.
    किसकी नजर लगी है जो गम में ही रमने लगें हैं आप.
    हमें भी ग़मगीन कर रहें हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. "क्यों न गम में,
    रहूँ खुश"

    गम को भगाने का कारगर उपाय - सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर गम में
    तू शामिल,
    क्यों न गम में ,
    रहूँ खुश .
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिस ग़म को ताल्लुक हो तुझ से, वो रास नहीं और रास भी है.............!
    hats off !

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्यूँ न रहूँ गम में खुश...............बहुत सुन्दर ...........पर विशाल जी...कहना आसान होता है पर गम में खुश रहना बहुत मुश्किल है|

    उत्तर देंहटाएं
  9. Gum men bhi khushi aap hi dhundh sakte ho vishal ..bahut khub ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. गम में ही ख़ुशी का मायने पता चलता है.बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.