08 फ़रवरी 2011

स्वयंनामा-1


याद   
बसन्ती रातों की सर्दी में 
नींद नहीं जब आती है
रात के पिछले पहर में उठ कर 
अधखिले चाँद के पीछे
तेरा चेहरा ढूंढता हूँ मैं.

चाह
तूने भेजा है गुलाब
रंगीन कागज़ में लिपटा हुआ
सुनहरी  रिबन में बंधा 
पर मैं चाहता हूँ
तू मेरे आँगन में
उगा इक फूल,इक पौदा 
चाहे कैक्टस  ही क्यों न हो 

लकीरें
झील में उतर आये
चाँद को 
अंजलि  में भर लिया था मैंने 
पर अधरों तक
पहुँचने  से पहले 
रिस गया  बूँद बूँद 
वक्त की रेत में 
दफ़न हो गया  कहीं
देखता हूँ 
मेरे गीले हाथों की लकीरें 
और गहरी हो गयी हैं.
 

39 टिप्‍पणियां:

  1. तीनों ही क्षणिकाएं बहुत सुंदर ...... 'याद ' खास अच्छी लगी
    बसंतोत्सव की शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  2. सगेबोब जी ,तीनो कविताए बेहद खूब सुरत हे --इसी तरह लिखते रहे --हमारी शुभ कामनाए हमेशा आप के साथ रहेगी -'-मेरी प्यारी माँ' पर भी मेरी कविताए पढ़ सकते हो|

    बसन्ती रातों की सर्दी में
    नींद नहीं जब आती है
    रात के पिछले पहर में उठ कर
    अधखिले चाँद के पीछे
    तेरा चेहरा ढूंढता हूँ मैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खुब। सारी क्षणिकाएॅ सुन्दर है पर तीसरी सबसे ज्यादा पसंद आई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्षणिकाएँ सभी प्यारी हैं पर 'चाह' सबसे अधिक अच्छी लगी...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (10/2/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खुसुरत क्षणिकाएं ! कोमल एहसास पिरोये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. झील में उतर आये
    चाँद को
    अंजलि में भर लिया था मैंने
    पर अधरों तक
    पहुँचने से पहले
    रिस गया बूँद बूँद


    बहुत सुंदर ..एक से बढ़ कर एक ...आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. bohot pyaari hain sabhi....beautiful thoughts :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. • क्षणिकाएं जीवन के खास संदर्भों को उजागर करने का सयास रूपक है, जीवन के खाली कैनवास पर विरल चित्रांकन!!
    बिम्बों का उत्तम प्रयोग।

    उत्तर देंहटाएं
  10. खुबसूरत एहसासों से सजी कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  11. खूबसूरत क्षणिकाएं, तीनो ही बेहतरीन हैं !

    आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. हाथों की गहरी लकीरों में से झांकता तकदीर सा इक चेहरा चांद का.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर एक से बढ़ कर एक| आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  14. चाँद......
    रिस गया बूँद बूँद
    वक्त की रेत में
    दफ़न हो गया कहीं
    बहुत खूब,
    बधाई और शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर कविता, अपने प्रोफ़ेशन से बिल्कुल अलग सोच.

    उत्तर देंहटाएं
  16. झील में उतर आये
    चाँद को
    अंजलि में भर लिया था मैंने
    पर अधरों तक
    पहुँचने से पहले
    रिस गया बूँद बूँद
    वक्त की रेत में
    दफ़न हो गया कहीं
    देखता हूँ
    मेरे गीले हाथों की लकीरें
    और गहरी हो गयी हैं.

    लाजवाब .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. इतने कोमल एहसासात को समेटे हैं तीनों कविताएँ कि डर लगता है हाथ लगाने से भी.. कहीं बिखर न जाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. namaskaar ji....
    blog pe aane ke liye shukriyaa main to aapka follower ban gaya hoon...

    रात के पिछले पहर में उठ कर
    अधखिले चाँद के पीछे
    तेरा चेहरा ढूंढता हूँ मैं.

    seedhe dil se nikli aawaaz hai sir ji...

    aafareen....aafareen....aafareen!

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुन्दर कविता
    आपका शुक्रिया....

    उत्तर देंहटाएं
  20. तीनो क्षणिकाएं बहुत सुन्दर हैं...चाह खासकर पसंद आई.

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्षणिकाएं बहुत सुन्दर हैं, पसंद आई.......

    उत्तर देंहटाएं
  22. पर अधरों तक
    पहुँचने से पहले
    रिस गया बूँद बूँद
    वक्त की रेत में
    दफ़न हो गया कहीं
    देखता हूँ
    मेरे गीले हाथों की लकीरें
    और गहरी हो गयी हैं.

    इस कविता के साथ काव्य की ये भावना और भी निखर गयी...
    बधाइयाँ..

    '''............


    मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
    तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.

    मैंने ये कब कहा की मेरे हक में हो जबाब
    लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे..

    उत्तर देंहटाएं
  23. खूबसूरत अहसासों को पिरोती हुई सुंदर भावप्रवण रचनाएं. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  24. रात के पिछले पहर में उठ कर
    अधखिले चाँद के पीछे
    तेरा चेहरा ढूंढता हूँ मैं.

    तीनो ही बेहतरीन हैं !

    आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  25. तूने भेजा है गुलाब
    रंगीन कागज़ में लिपटा हुआ
    सुनहरी रिबन में बंधा
    पर मैं चाहता हूँ
    तू मेरे आँगन में
    उगा इक फूल,इक पौधा
    चाहे कैक्टस ही क्यों न हो

    वाह, सुंदर चाहत।
    शायद यही चाहत की इंतिहा है।
    आपकी खूबसूरत कविताओं ने मन मोह लिया।

    उत्तर देंहटाएं
  26. bahut sunder rachnaye par mujhe tisari rachna
    bahut sunder lagi...

    उत्तर देंहटाएं
  27. वाह आपकी तो तीनों ही रचनाएं बहुत सुंदर हैं जी.

    उत्तर देंहटाएं
  28. एक से बढ़ कर एक ..पसंद आई..

    उत्तर देंहटाएं
  29. देखन में छोटे लगैं

    घाव करैं गम्भीर
    वाह वाह


    डॉ. दिव्या श्रीवास्तव ने विवाह की वर्षगाँठ के अवसर पर किया पौधारोपण
    डॉ. दिव्या श्रीवास्तव जी ने विवाह की वर्षगाँठ के अवसर पर तुलसी एवं गुलाब का रोपण किया है। उनका यह महत्त्वपूर्ण योगदान उनके प्रकृति के प्रति संवेदनशीलता, जागरूकता एवं समर्पण को दर्शाता है। वे एक सक्रिय ब्लॉग लेखिका, एक डॉक्टर, के साथ- साथ प्रकृति-संरक्षण के पुनीत कार्य के प्रति भी समर्पित हैं।
    “वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर” एवं पूरे ब्लॉग परिवार की ओर से दिव्या जी एवं समीर जीको स्वाभिमान, सुख, शान्ति, स्वास्थ्य एवं समृद्धि के पञ्चामृत से पूरित मधुर एवं प्रेममय वैवाहिक जीवन के लिये हार्दिक शुभकामनायें।

    आप भी इस पावन कार्य में अपना सहयोग दें।
    http://vriksharopan.blogspot.com/2011/02/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  30. तीनों ही रचनाएं बहुत सुंदर हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  31. "झील में उतर आये
    चाँद को
    अंजलि में भर लिया था मैंने
    पर अधरों तक
    पहुँचने से पहले
    रिस गया बूँद बूँद
    वक्त की रेत में
    दफ़न हो गया कहीं
    देखता हूँ
    मेरे गीले हाथों की लकीरें
    और गहरी हो गयी हैं."

    बहुत खूब....
    दिल को छूती हुई....

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.