25 फ़रवरी 2011

स्वयंनामा-3




एक नज़्म
रणजीत कौर ग़मगीन के नाम

हंसा   था मैं
जब तूने 
अपना तखल्लुस 
ग़मगीन बताया था
और तू मेरी हंसी को
अपने ग़मों की तरह
पी के बोली थी
शायर को सारे ज़माने का गम होता है
इस लिए ग़मगीन होता है
या फिर शायर को कोई गम नहीं होता
इसी लिए ग़मगीन होता है
और मैं खुल के हंसा था
और तूने
मेरे सख्त हाथों को 
 नर्म सी थपकी  दी थी
और कहा था 
बस लिखते रहना
और  मिलते रहना 
तब तेरे हाथों से 
तेरी खुशबू 
  मेरी रूह में    
उतर  आयी  थी 
 हम मिलते रहे
अनकिये वायदों की तरह
बिछड़  भी गए
अनकिये वायदों की तरह
 मैं लिखता रहा
अनकिये वायदों में जकड़ा
आज जबकि मुझको  
कोई गम नहीं 
तेरा भी गम नहीं
फिर भी 
कई बार दिल करता है
कि अपना तखल्लुस
ग़मगीन रख लूं
हाँ............
दूर परदेस से
तेरे खिलखिला कर
हंसने की आवाज़ आयी है
  

59 टिप्‍पणियां:

  1. कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.

    बहुत बढ़िया ..... संवेदनात्मक .... भावपूर्ण रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. sagebob ji,
    अति भावभीनी दिल को छूती प्यारी सी अभिव्यक्ति.कृपया,रंजीतकौर
    गमगीन जी के बारे में कुछ बताएँ.आपकी मेरे ब्लॉग 'मनसा
    वाचा कर्मणा'पर की गयी टिप्पणियों के लिए मै आभारी हूँ.मैंने आपके प्रश्न का उत्तर देने का प्रयास किया है.कृपया,अपने बहुमूल्य विचार प्रस्तुत कीजिये.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरती से भावों को उकेरा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.
    bahut hi khubsurat !
    abhaar!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज जबकि मुझको
    कोई गम नहीं
    तेरा भी गम नहीं
    फिर भी
    कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ...................
    ...........................................

    दिल की कलम से लिखते लिखते आप ने दिल को छू लिया..
    बहुत ही संवेदनशील रचना
    बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज जबकि मुझको
    कोई गम नहीं
    तेरा भी गम नहीं
    फिर भी
    कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    दिल को छूती प्यारी सी अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  7. "आरिजो लब सादा रहने दो
    ताजमहल में रंग ना डालो"
    खामोश गाजीपुरी का शेर सादगी की जिस सम्मोहन शक्ति को व्यक्त करता है, वही सम्मोहन आपके ब्लॉग महसूस होता है... सीधी सादी अभिव्यक्ति बाँध लेती है.... लकीरें, चाह, शीतयुद्ध, एहसास का सफ़र, कब्र..... वाह.... आनंद आ गया...
    आपके सौजन्य टीप ने मेरी हौसला आफजाई करने के साथ यहाँ का रास्ता दिखाया... आपका बेहद शुक्रिया
    आपका सच दुनिया का सच बनता रहे... इन्हीं शुभकामनाओं के साथ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. दिल को छू लेने वाली एक संवेदनशील रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (26.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  10. हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.

    रचना, जब अपने पाठकों से खुद बातें करने लगे
    तो उस रचना का सार्थक हो जाना
    प्रमाणित हो जाता है ...
    एक सार्थक कृति पर बधाई स्वीकारें .

    उत्तर देंहटाएं
  11. शायर को सारे ज़माने का गम होता है
    इस लिए ग़मगीन होता है
    या फिर शायर को कोई गम नहीं होता
    इसी लिए ग़मगीन होता है

    सोचने लायक विषय है ।

    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.

    इन पंक्तियों ने मन मोह लिया । बढ़िया प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. दर्द का रिश्ता एक शायर, उसकी रचना और उसकी प्रेरणा के मध्य स्पष्ट रूप से रेखांकित किया है आपने..

    उत्तर देंहटाएं
  13. तभी तो.... शायर कहता है- सारे ज़माने का दर्द हमारे जिगर में क्यों?

    उत्तर देंहटाएं
  14. कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है
    बहुत ही खूबसूरत रचना....यूं कहूं जबरदस्त रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत बढ़िया लिखा है आपने। दो तीन बार पढ़ गया मैं। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी नज़्म बहुत ही सजीव और दिल को छूने वाली लगी मुझे !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  18. मीठी यादें ही हमारी धरोहर हैं ...शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  19. दिल को छूती प्यारी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुंदर रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  21. दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.bahut khoob ..dil me utari dil se kahi gayee bate....

    उत्तर देंहटाएं
  22. बस लिखते रहना
    और मिलते रहना
    तब तेरे हाथों से
    तेरी खुशबू
    मेरी रूह में
    उतर आयी थी
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत खूबसूरती से भावों को उकेरा है| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  24. दानिश जी के कमेन्ट को मेरा ही मान लें। दिल को छू कर निकली रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  25. कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है

    वाह, कविता के कथ्य में ताजगी है।

    वियोगी होगा पहला कवि
    आह से उपजा होगा गान

    उत्तर देंहटाएं
  26. शायर को सारे ज़माने का गम होता है
    इस लिए ग़मगीन होता है
    या फिर शायर को कोई गम नहीं होता
    इसी लिए ग़मगीन होता है.

    बहुत ही अच्छी नज़्म, सुंदर मनोभावों को दर्शाती सीधे दिल उतरती रचना. बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  27. कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.
    bahut hi pasand aai rachna ,badi gahri baate hai ye .sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  28. "हंसा था मैं
    जब तूने
    अपना तखल्लुस
    ग़मगीन बताया था
    और तू मेरी हंसी को
    अपने ग़मों की तरह
    पी के बोली थी
    शायर को सारे ज़माने का गम होता है
    इस लिए ग़मगीन होता है
    या फिर शायर को कोई गम नहीं होता
    इसी लिए ग़मगीन होता है
    और मैं खुल के हंसा था
    और तूने
    मेरे सख्त हाथों को
    नर्म सी थपकी दी थी
    और कहा था
    बस लिखते रहना
    और मिलते रहना
    तब तेरे हाथों से
    तेरी खुशबू
    मेरी रूह में
    उतर आयी थी
    हम मिलते रहे
    अनकिये वायदों की तरह
    बिछड़ भी गए
    अनकिये वायदों की तरह
    मैं लिखता रहा
    अनकिये वायदों में जकड़ा
    आज जबकि मुझको
    कोई गम नहीं
    तेरा भी गम नहीं
    फिर भी
    कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है. "


    पूरी नज्म के साथ बेइंसाफी होगी यदि

    उसकी एक-दो लाइनों के बारे में कहा जाए...
    आपने तो लाजवाब लिख दिया है..

    बस उस दूर परदेस में रहनेवाली का पता दे दीजिये...

    उसकी हंसी की खनक को सुनने का मन हो आया है...!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. शायद ऐसा ही कुछ :

    " तू तो 'ग़मगीन ' हो कर भी ग़म से निजात पा गयी ,

    और मैं न चाहते हुए भी ग़मगीन हो गया "

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  30. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 01-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति


    क्या सच में तुम हो???---मिथिलेश


    यूपी खबर

    न्यूज़ व्यूज तथा भारतीय लेखकों का मंच

    उत्तर देंहटाएं
  32. charcha manch par chune jane ke liye bahut bahut badhai sagebob ji

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुन्दर अहसास सजाये रचना....

    एक शेर याद आ गया आपकी रचना पढ कर

    "गुलशन की फ़क्त फ़ुलों से नहीं...कांटों से भी जीन्नत होती है
    जीने के लिये इस दुनिया में... गम की भी जरुरत होती है"

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सुन्दर नज़्म .....गहन अनुभूतियों की मार्मिक अभिव्यक्ति आपकी रचनाशीलता का स्वयं परिचय देती है |

    महसूस ही कर पा रहा हूँ .....कितना दर्द उतार दिया है ?

    उत्तर देंहटाएं
  35. आज जबकि मुझको
    कोई गम नहीं
    तेरा भी गम नहीं
    फिर भी
    कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ....

    Bahut hi dil se uthte huve jajbaat hain ... Lajawaab rachna hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  36. तब तेरे हाथों से
    तेरी खुशबू
    मेरी रूह में
    उतर आयी थी

    बहुत ही भाव भीनी...प्यारी सी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत ही खूबसूरत रचना

    तेरी खुशबू
    मेरी रूह में
    उतर आयी थी
    हम मिलते रहे

    बहुत सुंदर...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  38. शायर को सारे ज़माने का गम होता है
    इस लिए ग़मगीन होता है
    या फिर शायर को कोई गम नहीं होता
    इसी लिए ग़मगीन होता है
    -- bahut khoobsoort
    bdhaai ho

    उत्तर देंहटाएं
  39. bahut hi .beintaha khoob surat abhivykti.
    कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.
    bahut hi marm saparshhi rachna.
    badhai swikaren
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  40. मेरे सख्त हाथों को
    नर्म सी थपकी दी थी
    और कहा था
    बस लिखते रहना
    और मिलते रहना
    तब तेरे हाथों से
    तेरी खुशबू
    मेरी रूह में
    उतर आयी थी
    ........
    khushbu rooh ki zaroorat hai...likhte rahiye...khushbudar rachna ke liye badhayee.

    Meri rachnaaon ki sarahna ke liye bhi dhayavaad.

    उत्तर देंहटाएं
  41. इस रचना में लौकिक और आलौकिक भाव की अभिव्यक्ति हुई है .....
    कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.
    मार्मिकता के साथ कही गयी पंक्तियाँ ....किसी के दूर होने पर उसके पास होने का बोध करवाती है ....पर हंसने की आवाज आना सच में भाव प्रवण है

    उत्तर देंहटाएं
  42. फिर भी
    कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस
    ग़मगीन रख लूं
    हाँ............
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.

    bahut khoobsurat ehsaas...

    उत्तर देंहटाएं
  43. शायर को सारे ज़माने का गम होता है इसलिए वह ग़मगीन होता है ..
    दास्तान-ए- तखल्लुस बढ़िया है !

    उत्तर देंहटाएं
  44. ग़म से लबरेज़ आपकी सुन्दर -सी रचना पढ़कर किसी का एक शेर याद आ गया.शेर है:-
    ग़म रहा जब तक कि दम में दम रहा,
    दम के जाने का निहायत ग़म रहा.
    यानी ग़म से निजात कभी नहीं मिलती.

    उत्तर देंहटाएं
  45. भावो की बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति .आखिरी पंक्तियाँ मन को छू जाती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  46. आपके ब्लॉग पर बेहतरीन नज्मे देखकर दिल बाग़-बाग़ हो गया , पंक्तिया दिल को छुनेवाली है , बेहतरीन काव्य के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  47. हम मिलते रहे अनकिये वायदों की तरह
    बिछड़ भी गए अनकिये वायदों की तरह

    waaah kya baat hai
    dil men utar gayi rachna
    bahut sundar

    badhayi / aabhaar

    उत्तर देंहटाएं
  48. गमगीन कर देने वाली हंसी.

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत सुन्दर कविता लिखी आपने..बधाई.
    _______________
    पाखी बनी परी...आसमां की सैर करने चलेंगें क्या !!

    उत्तर देंहटाएं
  50. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  51. दिल से निकली दिल की आवाज क्या कहने !

    कोन है -----?

    उत्तर देंहटाएं
  52. प्रिय sagebob जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    जनाब ! इतनी ख़ूबसूरत नज़्म !
    प्यार की पाकीज़गी में नहाई हुई …
    और पाकीज़ा मुहब्बत के एहसास से भिगोती हुई …
    बहुत ख़ूबसूरत ! वाह !

    आज जबकि मुझको कोई ग़म नहीं
    तेरा भी ग़म नहीं
    फिर भी
    कई बार दिल करता है
    कि अपना तखल्लुस ग़मगीन रख लूं
    …………………
    दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर हंसने की आवाज़ आई है …

    भरपूर दाद आपके नाम !

    :) … लेकिन आप कुछ अच्छा सा तख़ल्लुस रख ही लें …
    या अपना नाम बताएं …
    संबोधित करते हुए यार , तक़लीफ़ -सी होती है
    आपके पास नहीं आ पाते …
    मुलाकात अधूरी-सी महसूस होती है जब-तब …

    तीन दिन पहले ही था …


    विश्व महिला दिवस की हार्दिक बधाई !
    शुभकामनाएं !!
    मंगलकामनाएं !!!

    ♥मां पत्नी बेटी बहन;देवियां हैं,चरणों पर शीश धरो!♥



    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  53. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप को तथा आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामना. यहाँ भी आयें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.upkhabar.in

    उत्तर देंहटाएं
  54. दूर परदेस से
    तेरे खिलखिला कर
    हंसने की आवाज़ आयी है.

    bahut hi sunder, aasnu aur muskurahat...

    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.