10 जून 2011

एच टू ओ ................................."निर्दोष"

  मुझे   
नहीं 
जानना
 है पानी का 
रासायन  सूत्र,
मुझे   तो  अपनी
प्यास   बुझानी   है,
औरों       के    लिए 
होता         होगा 
एच टू ओ 


मेरे लिए तो
पानी सिर्फ पानी है. 


21 टिप्‍पणियां:

  1. प्यास बार-बार लगती रहे तो पानी सिर्फ पानी नहीं है जीवन दायी है..जिससे मिल हम भी पानी हो जाए.. शाश्वत कथन

    उत्तर देंहटाएं
  2. पानी की महिमा निराली है न मिले तो आग वरना पानी ही पानी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. पानी रे पानी तेरी अजीब कहानी। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरे लिए तो
    पानी सिर्फ पानी है.

    गहन जीवन दर्शन है आपकी इस रचना में....शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. पानी ही अमृत है ..हाँ बूंद अच्छी बनायीं है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सत्य वचन ! गहरे भाव को दर्शाती कविता !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुछ भी कहो पानी तो पानी है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरे लिए तो
    पानी सिर्फ पानी है.

    बहुत सार्थक और अच्छी सोच ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. Wow I liked the shape of drop from words and the words as well.
    Well written.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मेरे लिए तो
    पानी सिर्फ पानी है.

    बहुत सुन्दर रचना....शुभकामनायें.........

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (13-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुराही में तो एच टू ओ ही रहेगा... हां कभी कभी जाम भी रह सकता है :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. संरचना से उपयोगिता ज्यादा महत्वपूर्ण है. गहरे भाव लिए सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  14. पानी तो पानी है और " बिन पानी सब सून " भी. ज़ाहिर है सूत्र ज्ञात होने पर भी पानी आवश्यकतानुसार प्रयोगशाला में नहीं बनाया जा सकता . ठीक इसी प्रकार नयनों की गंगा अर्थात आंसुओं का भी अपना महत्त्व है , उन्हें केवल एच टू ओ तथा एन ए सी एल का मिश्रण तो नहीं माना जा सकता. मतलब तो उपयोगिता और भावना से है.
    बढ़िया अभिव्यक्ति, विशाल जी.

    उत्तर देंहटाएं
  15. पानी रे पानी तेरा रंग कैसा
    जिस में मिला दो लगे उस जैसा
    पानी की व्याख्या शब्दों में नहीं हो सकती

    उत्तर देंहटाएं
  16. मेरे लिये तो पानी सिर्फ़ पानी है...बहुत गहन चिंतन को दर्शाती सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  17. kavita toh achhi hai hi, uska boond ka aakar use aur b achha look de rahaa hai

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह ! क्या खूब कही....

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह! आपके पानी का कोई सानी नहीं.पानी को समझ सके वही सच्चा ध्यानी है.

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.