03 जून 2011

अधूरे सच

तुम्हारे
और मेरे
अधूरे सच
हो सकेंगे
न कभी
पूर्ण
तो प्रिये
क्यों न
स्वीकारें
हम अपने
अधूरे सच
कम से कम
स्वीकृति
के सच को
तो हो जानें दे
पूर्ण

31 टिप्‍पणियां:

  1. कम से कम
    स्वीकृति
    के सच को
    तो हो जानें दे
    पूर्ण

    वाह्…………काश ऐसा भी कोई कर पाये और उसका अहम आगे ना आये ……………स्वीकृति के सच को भी पूर्णता नही मिल पाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाव के साथ लिखी कविता पर बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  3. adhoora sa hai fasana mera
    apne andar jazb kar lo mujhe
    to poora ho jaun main
    aur shayad tum bhi

    aap bhi aaiye

    abhaar

    उत्तर देंहटाएं
  4. कम से कम
    स्वीकृति
    के सच को
    तो हो जानें दे
    पूर्ण

    सच को कहती भावात्मक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्यों न
    स्वीकारें
    हम अपने
    अधूरे सच
    कम से कम
    स्वीकृति
    के सच को
    तो हो जानें दे
    पूर्ण
    bahut sunder abhibyakti.badhaai aapko.

    please visit my blog.thanks

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच तो सच है, अधूरा ही सही, पूरा चांद किसे मिला है :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. वैसे तो a truth that is half told is not less than a lie, लेकिन कुछ सच अधूरे ही अच्छे होते हैं।
    कम लफ़्ज़ों में बहुत कुछ कह गये विशाल भाई, और वो भी निहायत खूबसूरती से।
    वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह विशाल जी छोटी सी बात में बड़े अर्थ, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  10. विशाल जी
    बहुत सुन्दर ...अधूरेपन की स्वीकृति ही ले जाती है हमें पूर्णता की ओर ...बहुत गूढ़ बात कह दी है आपने इस नन्ही सी नज़्म में..दर्शन समाया है पूर्णता को महसूस करने का... बधाई आपको इस चिंतन और उसे शब्द देने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुदिता जी से पूर्णतया सहमत हूँ कि अधूरेपन की स्वीकृति ही ले जाती है हमें पूर्णता की ओर .
    बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति थोड़े शब्दों में. !
    बधाई, विशाल जी !

    उत्तर देंहटाएं
  12. शायद इस को ही सहभागिता कहते हैं .....

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी छोटी सी कविता बहुत बड़ी बात कह जाती है.
    क्या 'विशालता' इसी को कहतें हैं ,विशाल भाई ?
    जाने में कुछ देरी हो गई.इसीलिए जाते जाते यही
    टिपण्णी करने का मन किया.बाकी आने के बाद.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन। यही तो कविता है। छोटी ही सही पर अपने अर्थ में पुरी तरह कामयाब।

    उत्तर देंहटाएं
  15. स्वीकृति ही पूर्णता है । बहुत ही अच्छी कविता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. पूर्ण रूपेण सहमत. सुंदर भावपूर्ण रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  17. पूर्णता में खो जाना,पूर्ण हो जाना..सच जो भी हो ...स्वीकार करना ही एक द्वार खोलना है..संभवतः विस्तृत आसमान का ....जिसमे विचरण कर ही पूर्णता का अनुभव किया जा सकता है..

    उत्तर देंहटाएं
  18. कम से कम
    स्वीकृति
    के सच को
    तो हो जानें दे
    पूर्ण

    यह सच भी .....क्या है ...अगर पूरा हो जाए तो ....बहुत गहन भाव का सम्प्रेषण करती रचना .....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  19. कम शब्दों में बहुत गहरी बात कह दी आपने।
    शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बेहद उत्कृष्ट रचना है यह. आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  21. कम लफ़्ज़ों में गहरी बात.......बहुत खूबसूरत|

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत मुश्किल है अधूरे सच को स्वीकार करना....

    उत्तर देंहटाएं
  23. विशाल जी अच्छी क्षणिका है ....
    कुछ इसी तरह की बेहतरीन क्षणिकाएं हों तो भेज दें सरस्वती-सुमन के लिए ...
    अपने संक्षिप्त परिचय व तस्वीर के साथ .............

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.