20 जून 2011

चंद बेवज़न अशआर

                         जब तलक ज़िंदा हैं पत्थर ही खायेंगे
मर अगर गये तो खुदा हो जायेंगे

************
खलूस में तो मेरे कोई कमी नहीं
पाँव तले तुम्हारे ही अब वो ज़मीं नहीं

***********

ज़िन्दगी नज्मों से कहाँ चलती है
शायरों को भी भूख लगती है

*************
इक रहनुमा की बात को
मैं दिल से लगा बैठा हूँ
नयी सुबह की उम्मीद में
रातों से जगा बैठा हूँ

*****************
दिन में सूरज की तरह जलता है
रात को चाँद सा पिघलता है
तुझे आईना मैं दिखाऊँ कैसे
तेरा चेहरा रोज़ बदलता है

38 टिप्‍पणियां:

  1. इक रहनुमा की बात को
    मैं दिल से लगा बैठा हूँ
    नयी सुबह की उम्मीद में
    रातों से जगा बैठा हूँ

    bahut khoobsoorat shayari hai .. ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिन में सूरज की तरह जलता है
    रात को चाँद सा पिघलता है
    तुझे आईना मैं दिखाऊँ कैसे
    तेरा चेहरा रोज़ बदलता है
    Bahut achi rachna ..!

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक से बढ़ कर एक...
    जिन्दगी नज्मो से कहा......वाली ज्यादा पसंद आई..
    मर अगर गए तो खुदा हो जायेंगे...........बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  4. इक रहनुमा की बात को
    मैं दिल से लगा बैठा हूँ
    नयी सुबह की उम्मीद में
    रातों से जगा बैठा हूँ

    Bhetreen Abhivykti....

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये अशआर बेवज़न हैं ? मुझे तो समझ में नहीं आया कि किसका वज़न कम है.
    एक से बढ़कर एक.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी एक से बढ़कर एक हैं!
    bahut khoob likhi hain.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब तलक ज़िंदा हैं पत्थर ही खायेंगे
    मर अगर गये तो खुदा हो जायेंगे.

    अगर यह बेबजन हैं तो बजनदार अशआर कैसे होंगे.

    मानना पड़ेगा. बहुत असरदार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. विशाल भाई, इतने वजनदार अशआर हैं, इन्हें बेवजनी क्यों बताते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन ... वजनदार , एक से बढ़कर एक

    उत्तर देंहटाएं
  10. amitabh bachhan ji ki panktiyan yaad aa gayin ,
    tumne to hamein pooj pooj kar but bana diya
    jo log jumle kaste hain hamein zinda to samajhte hain

    उत्तर देंहटाएं
  11. खुबसूरत शेर......आखिरी वाला सबसे बढ़िया लगा|

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बडःइया भाव अच्छे हैं एक शेर को कुछ इस तरह बह्र मे लिखने की कोशिश की है
    ज़िन्दगी नज़्मों से भी चलती मगर कब तक चलेगी
    शायरों को भी तो कम्बख्त भूख लगती है कभी तो
    सभी अच्छे अशार इन्हें बहर मे ढाल लीजिये अच्छी गज़ल बन जायेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  13. " ये इश्क नहीं आसां , बस इतना समझ लीजे ,
    इक आग का दरिया है और डूब के जाना है "

    आपके अशआर ज़मीनी हकीक़त से लबरेज़ हैं , बेवज़न तो हो ही नहीं सकते !
    बधाई , विशाल भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन ... बहुत ही वजनदार , एक से बढ़कर एक........ जवाब नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  15. Vishalji,

    खलूस में तो मेरे कोई कमी नहीं
    पाँव तले तुम्हारे ही अब वो ज़मीं नहीं

    bahut sunder band likhe hain.

    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं
  16. ज़िन्दगी नज्मों से कहाँ चलती है
    शायरों को भी भूख लगती है


    आपने बहुत सुन्दर शब्दों में अपनी बात कही है। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत प्‍यारे और वजनदार अशआर हैं जी।

    उत्तर देंहटाएं
  18. ज़िन्दगी नज्मों से कहाँ चलती है
    शायरों को भी भूख लगती है
    ,वाह वाह बहुत सुंदर मुबारक हो......

    उत्तर देंहटाएं
  19. दिन में सूरज की तरह जलता है
    रात को चाँद सा पिघलता है
    तुझे आईना मैं दिखाऊँ कैसे
    तेरा चेहरा रोज़ बदलता है
    बेहतरीन ... एक से बढ़कर एक !
    बहुत गहन भावों को उकेरती एक सराहनीय रचना| धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत बढ़िया शेर हैं ,विशाल जी.

    उत्तर देंहटाएं
  21. दिन में सूरज की तरह जलता है
    रात को चाँद सा पिघलता है
    तुझे आईना मैं दिखाऊँ कैसे
    तेरा चेहरा रोज़ बदलता है

    यही है आज के इंसान का असली चेहरा…………सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  22. क्या बात है विशाल भाई,
    कमाल का लिख गजब ढा रहें हो
    शायरी का परचम लहरा रहें हो
    बदलते चहरे के रंग दिखला रहें हो,
    हमारे दिल को लिए उड़े जा रहें हो
    आप मर कर नही जी करके ही खुदा बने जा रहें हो.

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपने बहुत सुन्दर शब्दों में अपनी बात कही है। धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  24. उम्दा अशआर विशाल भाई.... आनंद आ गया....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  25. विशाल भाई! सच्मुच बेवज़न अशार हैं आपके.. क्योंकि शेर का सारा वज़न तो हम अप्ने दिल पर महसूस कर रहे हैं!!कमाल किया भाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. ज़िन्दगी नज्मों से कहाँ चलती है
    शायरों को भी भूख लगती है

    बहुत सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  27. इक रहनुमा की बात को
    मैं दिल से लगा बैठा हूँ
    नयी सुबह की उम्मीद में
    रातों से जगा बैठा हूँ

    क्या बात है...बहुत खूब..सारे शेर एक से बढ़कर एक हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. बेहतरीन नज़्म जैसे..जैसे .. सीप से अभी-अभी निकला हो..और नजरें ठहर गयी हो..

    उत्तर देंहटाएं
  29. एक से बढ़कर एक मुक्तक...
    हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  30. जब तलक ज़िंदा हैं पत्थर ही खायेंगे
    मर अगर गये तो खुदा हो जायेंगे.........
    वाह, क्या बात कही है!!!

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.