25 सितंबर 2011

अन्धेरा

गयी रात तेरी गली का,
इक चक्कर लगा आये,
अँधेरे के सिवा,कुछ न मिला
हम अन्धेरा उठा लाये,
यादों की गठरिया में ,
उसको किया है कैद,
रहता है डर हमेशा,
कहीं गाँठ खुल न जाए.

23 टिप्‍पणियां:

  1. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 26-09-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. यादों की गठरिया में गांठ बहुत जबरदस्त लगी है. सुंदर प्रस्तुति. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रतीक ... संवेदनशील रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. गाँठ तो खुल कर रहेगी विशाल भाई.
    हाँ, बंद अँधेरा उजाले में तब्दील हो जाये
    यही तो विशालता होगी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ओह, वो चोर आप ही थे! मै भी चिंता में था की मेरी गली का अँधेरा कहा गायब हो गया नामुराद!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तम प्रयास , प्रभावशाली सृजन को सम्मान ... धन्यवाद /

    उत्तर देंहटाएं
  7. यादों की गठरी की गाँठ नहीं खुलेगी,विशाल जी.
    बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रस्तुति पर
    बहुत-बहुत बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक एक न एक दिन गांठ तो खुल ही जाती है

    बहुत अच्छा मुक्तक

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुभानाल्लाह.........हम अँधेरा उठा लाये......वाह साहब वाह |

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छा मुक्तक...बहुत-बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या खूब... बहुत बढ़िया....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं



  13. वाह ! अंधेरा उठा लाए …
    बहुत ख़ूब !


    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  14. लाजवाब ..शक्ति-स्वरूपा माँ आपमें स्वयं अवस्थित हों .शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  15. "गयी रात तेरी गली का,
    इक चक्कर लगा आये,
    अँधेरे के सिवा,कुछ न मिला
    हम अन्धेरा उठा लाये,
    यादों की गठरिया में ,
    उसको किया है कैद,
    रहता है डर हमेशा,
    कहीं गाँठ खुल न जाए."

    ला कर तेरे अँधेरे से हमने किये उजाले
    यादों की गठरी खोल के बिखरा दिए है फूल....!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह पूनम जी,
    आपने तो इस नज़्म का भाव ही बदल दिया.
    बहुत खूब.
    आभार आपका.
    आपके मार्ग दर्शन से इसे दोबारा लिखने की कोशिश कर रहा हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  17. अँधेरे के जिन्न को गठरी में क़ैद करने के लिए, किसने कहा था जनाब !
    बढिया प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.