28 सितंबर 2011

स्वयंनामा -5

सिफ़र

मनफ़ी और जमा को
अपनी ज़िन्दगी से
कैसे हटाऊँ,
तुम ही बताओ 
कोई फ़ॉर्मूला 
कि मैं फिर से,
सिफ़र हो जाऊं.

लम्हे

मैं वक़्त की शाख से
गिरते हुए
लम्हे समेटता  हूँ,
जो बच जाते हैं साबुत, 
उन्हें करीने से
सजा देता हूँ
जो गिर कर
टूट जाते हैं
उनकी किरचों को उठा कर
सीने से लगा लेता हूँ

आज फिर 

आज फिर सूरज
बिना बताये ही डूब गया
आज फिर अँधेरे
बिना बुलाये ही आ गये
आज फिर पुराना ज़ख्म
छील गयी बहती हवा
आज फिर दर्द ने
दस्तक दी है
आज फिर बिना चाहे ही
पैमाना भर लिया
आज फिर मौत का 
सामान तैयार है. 

22 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! सुन्दर प्रस्तुति.
    स्वयंनामा कर यह रंग भी गहन और निराला है.

    आभार,विशाल भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी लाजबाब और गहरे अर्थ संप्रेषित करती हैं ....जिंदगी में सिफर हो जाना ...खुद को पा जाना है लेकिन ऐसा कोई कोई ही कर पाता है ...सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  3. तीनों ही लाजवाब है
    गहरी अभिवयक्ति है दर्द की
    शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज फिर आपने दिल की कलम का क़ायल बना दिया विशाल जी.और क्या कहा जाय...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह जनाब, बहुत सुन्दर क्षणिकाएं है ... तीनो ही लाजवाब हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. तीनों ही रचनाएँ लाजवाब है, लेकिन लम्हे के भाव मन को छू गए...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही ख़ूबसूरत...ख़ास तौर से सिफ़र ने दिल छू लिया...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब विशाल जी ... तीनों का अलग ही अंजाद है ...

    उत्तर देंहटाएं



  9. विशाल जी
    अच्छी क्षणिकाएं लिखी हैं …
    वाकई तीनों एक से बढ़कर एक हैं … बधाई !


    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  10. बस विशाल जी!
    यही रंग देखने को तरस रहे थे हम... आज बस दिल खुश हो गया, लगा कोई बिछडा मिल गया हो!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. तीनो ही बहुत सुन्दर क्षणिकाएं है|
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं|

    उत्तर देंहटाएं
  12. विशाल जी

    तीनों क्षणिकाएं एक से बढ़कर एक… बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुभानाल्ह...........तीनो ही शानदार हैं.........बहुत पसंद आईं |

    उत्तर देंहटाएं
  14. अच्छी क्षणिकाएं सीधे दिल से निकली हुई. सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  15. tino kshanikayen bahut hi sunder hain lajavab
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  16. आज फिर पुराना ज़ख्म
    छील गयी बहती हवा
    सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.