03 अक्तूबर 2011

                    गुम


उसने मुझे ढूंढ लिया,
उसने मुझे पा लिया,
मैं गुम था हमेशा से,
गुम ही रहा सदा.



18 टिप्‍पणियां:

  1. मैं गुम था हमेशा से,
    गुम ही रहा सदा.

    गुम की बड़ी लंबी दुम है,विशाल भाई.

    आपकी गुमसुम सी प्रस्तुति बहुत अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. राकेश भाई ,
    बहुत काम आती है
    आपकी
    हौसला अफजाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. शानदार प्रस्तुति ||
    बहुत बहुत बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. चार पंक्तियों में सुन्दर संवेदनशील अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. गुम और गम ....पर लिखी आपकी यह रचना गहरे अर्थ संप्रेषित करती है

    उत्तर देंहटाएं
  6. केवल भाई, इस रचना में केवल गुम है गम नहीं.
    गम की दुकां तो बंद कर चुके हैं,विशाल भाई.

    आखिर 'ढूंढ'ही लिया है आपको मैंने
    अब विशाल भाई आपकी गुमनामी से.
    बहुत बहुत धन्यवाद मेरी हौसला अफजाई
    के लिए विशाल भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुभानाल्लाह..........एक शेर में इतनी गहराई........दिल जीत लिया..वाह|

    उत्तर देंहटाएं
  8. विशाल जी आपकी लिखी ये चार पंक्तियाँ पसंद आई!

    उत्तर देंहटाएं
  9. और निकलती है ये सदा
    गुम ही रहूँ उसीमें.... सदा

    उत्तर देंहटाएं
  10. .........................
    हमने बारहा ढूँढा, तुमने बारहा पाया।


    विशाल भाई, देर से आया हूँ लेकिन मैं देर करता नहीं देर हो जाती है। समझोगे, हमपेशा हो न:)

    उत्तर देंहटाएं
  11. खुद के लिए गुम होते हुवे भी किसी को पा जाना ... लाजवाब ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. .लगता है पुलिस में रपट लिखवाना पड़ेगा!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. मुझे लगता है आप गुम नहीं हुए हैं ,किसी की याद में खो गये हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बड़ी विडम्बना ... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.