07 जुलाई 2011

बस !

लम्हे को मिला बस
लम्हे में पला बस
लम्हे में ढला बस 
लम्हे में हुआ बस
न उसका चला बस
न मेरा चला बस
जो उसने कहा बस
तो अपना हुआ बस
हमको न मिला बस
मुहब्बत का सिला बस 
उस से है गिला बस
जिसने ये दिया बस

26 टिप्‍पणियां:

  1. न उसका चला बस
    न मेरा चला बस....

    फिर क्यूँ है ये गिला बस.........
    सुन्दर प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुहब्बत का सिला बस
    उस से है गिला बस

    बस पर न चला बस
    क्यूँ इतनी गिला है बस
    अनवरत इंतजार है बस
    थक गई हैं आँखे बस
    क्या मोहब्बत सताना है बस?

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस और बेबस की यह जद्दोजहद .....!

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो लम्हा बस ... सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. न मेरा चला बस
    जो उसने कहा बस
    तो अपना हुआ बस
    हमको न मिला बस
    मुहब्बत का सिला बस

    आन्तरिक भावों के सहज प्रवाहमय सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सहज सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. माफ़ कीजिये मुझे आपकी ये पोस्ट पसंद नहीं आई.......

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब ........अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. काश कुछ लोग कुछ और मामलों में भी बस कर लेते ,
    -----तो कितना अच्छा होता !

    बेहतरीन प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस 'बस' ने तो हद कर दी ---जाती ही नहीं ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. शब्दों से खेलना आप बखुबी जानते है। सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपका लम्हे ने रोक लिया मुझे.क्या .... कहूँ?

    उत्तर देंहटाएं

मंजिल न दे ,चिराग न दे , हौसला तो दे.
तिनके का ही सही, मगर आसरा तो दे.
मैंने ये कब कहा कि मेरे हक में हो जबाब
लेकिन खामोश क्यों है कोई फैसला तो दे.